Khujli Ka Desi aur Gharelu ilaj – खुजली के घेरुलू उपाय

Kya aap itching se pareshan hai aur khujli ka ilaj search kar rahe hai? वैसे तो इसका gherulu और desi upay है परन्तु सही समय पर उपयोग करने से ही लाभ मिलता है | Khujli जिसे Daad, Khaj या Eczema भी बोला जाता है, यह आज कल एक आम बीमारी है जो की हमारे skin में होता है | Itching होने पर skin पर लालपन आने लगता है और बहुत जोरो से खुजली होने लगती है, ज्यादा खुजली करने से skin लाल हो जाता है | वैसे तो यह बीमारी ज्यदातर 7 साल से कम उम्र वाले बच्चो में पाया जाता है, परन्तु ध्यान ना देने से यह बड़ो में भी फैल जाता है  | Eczema वैसे तो चेहरे, गले,  हाथ और पैरो पर अक्सर होता है, परन्तु कई बार private parts में भी हो जाता है | कई बार तो itching skin के dry होने के कारण या ज्यादा देर गिला रहने से भी होता  है | वैसे तो khujli ka treatment अपने desi gherulu upay से भी किया जा सकता है यदि सही समय पर सही तरीके से उपचार किया जाए तो  |

खुजली होने  के कारण / Reason Behind Itching 

  • Allergy के कारण
  • ठंडा गरम मौसम change होने के कारण
  • तनाव के कारण
  • गंदगी होने के कारण
  • Dry skin होने के कारण
  • काफी देर गिला रहने के कारण

खुजली होने के लक्षण / Symptoms of Itching

Waise to Khujli ke symptoms ko pakdna kafi aasan hai aur ise aap bhi dekh kar samaj sakte hai ki aapko khujli ki bimari hui hai ya nahi. तो चलिए देखते हैं khujli hone ke kya lakshan hai जो की निचे दिए गए हैं :

  • इसके होने पर skin का color थोडा red हो जाता है
  • ज्यादा खुजली करने से यह आसानी से फैल जाता है
  • हमेशा मन करता है की खुजली करते रहे
  • ज्यादा itching होने पर जलन होने का महसूस होने लगता है |
  • छोटे छोटे दाने निकाल आना

खुजली के घरेलु  उपाए / Itching treatment using desi remedies

तो चलिए देखते है khujli ki dawa अपने gherulu upay से कैसे संभव है |

देशी घी – यदि आप को खुजली ज्यादा हो रही हो तो उस जगह  देशी घी को हल्का सा गरम कर के massage करने राहत मिलती  है |

खीरे का रस – Eczema होने पर खीरे को पिस कर उसके रस से मालिश करने पर itching से राहत मिलता है |  Kheere ke labh और जानने के लिए दिए गए लिंक पर click करें |

एलो वेरा – एक aloe vera के पत्ते को काट कर उसके गुद्दे को itching वाले हिस्से में लगाने से राहत मिलता है |

टमाटर के रस – सुबह सुबह पके हुए टमाटर (tomato) का juice पिया करें और कम से कम 5 दिनों तक लगातार पिये और फर्क देखे |

नारियल तेल और कपूर  – अगर आपके हाथो में या पैर में ज्यादा ही खुजली हो रही हो तो coconut oil में कपूर (camphor)  को मिला कर उस जगह पर लगाने से राहत मिलती है |

मुलतानी मिटटी – वैसे तो मुलतानी मिटटी के अनेक लाभ हैं, जिसमे से की यह दाद या खाज होने पर भी लाभदायक है | मुलतानी मिटटी और गुलाब जल को मिला कर लेप बना कर उसे infected area में लगाने से भी राहत मिलता है |

  • 3 चमम्च मुलतानी मिटटी लें
  • 3 चमम्च गुलाब जल लें
  • अब इसको मिला कर paste बना लें

नीम के पत्ते – नीम के हरे पत्ते को पिस कर उसके लेप को लगाने से खुजली से राहत मिलता है |

  • 10 नीम के हरे पत्ते लें
  • उसमें थोडा पानी दाल कर paste बना लें

पान का पत्ता और शहद – यह एक desi ilaj है जिससे khujli होने पर उससे छुटकारा पाया जा सकता है | पान के पत्ते में शहद को मिला कर affected skin पर लगाने से राहत मिलती है |

Dettol / Savlon –  अगर ऊपर दिए हुए सामन घर पर उपलब्ध ना हों तो आप Dettol या Savlon को लगा सकते है |

  • 1 चमम्च Dettol या Savlon लें
  • 1 चमम्च साफ़ पानी को ले
  • अब दोनों को मिला कर, साफ़ रुई से खुजली वाले स्थान पर हल्का सा रगर कर छोड़ दें |

Baking Soda – एक चमम्च खाने वाले soda को लें और 1 चमम्च साफ़ पानी को ले कर उसे खुजली वाले स्थान पर लगा कर छोड़ दे | इस प्रक्रिया को दिन में 3 बार दोहराया करें |

नीम के पत्ते से स्नान – अगर आपको खुलजी की बीमारी काफी दिनों से हो तो 40 से 50 हरे नीम के पत्ते को थोड़े गरम पानी में 2 मिनट तक boil कर दें और उसे नहाने वाले पानी में मिला दें | अब इस पानी से स्नान करे | इस प्रक्रिया को कम से कम 1 सप्ताह इस्तेमाल में लायें और अंतर देखे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *