दिल को दुरुस्त रखने के लिए इन बातों का रखें ख्याल(heart care tips)

दिल को दुरुस्त रखने के लिए इन बातों का रखें ख्याल(heart care tips)

आजकल की प्रोफेशनल लाइफ(professional life) टेंशन(stress) से भरी हुई है| तनाव के चलते लोग अपनी डाइट(diet) पर बिल्‍कुल भी ध्‍यान नहीं देते है और ना ही नियमित व्यायाम(exercise) करते है| इसके चलते आजकल कम उम्र वाले लोगो को भी हृदय(heart) संबधी रोग हो रहे हैं। दरहसल दिल(heart) की बीमारी (heart disease) एक ऐसी खतरनाक समस्‍या है जो गंभीर चिंता का विषय है।

यदि आप एक स्वस्थ जीवन जीना चाहते है तो आपके दिल(heart) का सेहतमंद होना बहुत जरुरी है| वैसे देखा जाये तो दोनों ही एक दुसरे के पूरक है| आप स्वस्थ जीवनशैली(life style) के बिना सेहतमंद दिल(heart) नहीं पा सकते और यदि आपका दिल सेहतमंद नहीं है तो जायज सी बात है की आपकी जीवनशैली(life style) भी स्वस्थ नहीं हो सकती है|

लापरवाही के चलते हृदय की बीमारियों (heart disease) से होने वाली मृत्यु-दर बढती जा रही है| इसलिए यह बेहद जरूरी है कि हम अपने दिल(heart) का अच्छे से ख्याल रखें। हृदय स्वास्थ्य के बारे में संपूर्ण जानकारी जानकर आप खुदको और अपने परिवार को सुरक्षित रख सकते हैं।

हम में से कई ऐसे लोग हैं, जो गलत तरीके की जीवनशैली(life style) जीते हैं और दिल(heart) की सेहत को नजरअंदाज कर देते हैं।

आज हम जानेंगे की कैसे अपने ह्रदय को सेहतमंद रखा जा सकता है|(how your heart can be kept healthy)

  • ओमेगा-3 से भरपूर अखरोट(Omega-3 rich walnuts)

ह्रदय को स्वस्थ रखने के लिए आपका कोलोस्‍ट्रॉल नियमित होना भी बहुत जरुरी है| इसलिए ऐसे आहार लेना चाहिए जिनसे शरीर में कॅालेस्ट्राल का स्तर नियंत्रित रहे|  नियमित अखरोट(walnut) का सेवन करने से कोलेस्ट्रोल कम होता है और हृदय की धमनियों(heart arteries) में सूजन कम होती है। इसमें ओमेगा-3(omega-3), मोनोसैच्‍युरेटेड फैट(mono saturated fat) और रेशा(fiber) पाया जाता है जो आपके लिए फायदेमंद होता है|

  • कॉफ़ी का सेवन(Coffee intake)

कुछ शोधो से यह बात सामने आई है की जो लोग दिन में 2 से 4 बार कॉफी का सेवन करते है उनमे हृदय रोग(heart problems) होने का खतरा कम होता है। लेकिन यदि आपको मधुमेह है तो इसका सेवन कम करे। डायबिटीज के मरीजो के लिए फिर ग्रीन(green tea) और ब्‍लैक कॉफी(black coffee) ज्‍यादा फायदेमंद होती है।

  • वजन को नियंत्रित रखे(Weight management held)

वजन के ज्यादा होने पर भी आपको ह्रदय रोग हो सकता है| वजन का बढ़ना(Weight gain) ऐसी समस्या है जो कई सारी बीमारियों को जन्म देती है| वजन के बढ़ने पर होनी वाली समस्याए जैसे मोटापा (obesity), मधुमेह(diabetes) आदि के इलाज के लिए तो आपको समय मिल जाता है| लेकिन ह्रदय रोग ऐसा रोग हे जो आपको कभी भी समय नहीं देता है|

एक किये गए शोध के अनुसार यदि आपका वजन हर साल एक किलो बढ़ता जा रहा है तो इसका मतलब आपको ह्रदय रोग(heart disease) होने का खतरा भी बढ़ता जा रहा है|

  • नमक का सेवन ना करे (Should not intake salt)

उच्च रक्चाप की समस्या वालो को भी ह्रदय रोग(heart disease) होने का खतरा बहुत रहता है| इसलिए यदि आपको हाई ब्लड प्रेशर(hight blood pressure) है तो नमक का सेवन कम करदे| नमक का सेवन अधिक लेने से हृदय संबंधी समस्याएं होने का खतरा बढ़ जाता है।

  • मधुमेह पर रखें नियंत्रण(Keep control on diabetes)

 Healthy Heart Tips के अनुसार यदि किसी को डायबीटीज है तो उसे भविष्य में दिल की बीमारियां(heart disease) होने का खतरा सामान्य लोगो के अपेक्षाज्यादा रहता है। ऐसे में उन्हें रक्त में शर्करा की जांच बार बार करवाते रहना चाहिए| डायबेटोलॉजिस्ट के अनुसार हर तीन महीने में एक बार अपना एचबीए1सी लेवल जरूर जाँच करवाना चाहिए| इसके अतिरिक्त साधारण चीनी के इस्तेमाल से बचें, कच्ची सब्जियां और छिलके वाले फल रोज खाएं।

  • तनाव ना ले(do not stress)

तनाव(stress) सबसे ज्यादा दिल की बीमारियों का कारण बनता है। अपनी जीवनशैली(life style) में बदलाव लाकर आप तनाव को खुद से दूर कर सकते है| इसके लिए रोज कम से कम 7 से 8 घंटे की नींद लें। अपने काम को योजनाबद्ध तरीके से अंजाम दें और चिंता करना छो दे| ओमेगा3 फैटी एसिड(omega 3 fatty acid)का सेवन आपके तनाव और अवसाद को कम करने में मदद करता है| इसके लिए बिना नमक वाला पिस्ता, बादाम, अखरोट, सैलमन और टूना मछली खाने की सलाह दी जाती है।

  • नियमित व्यायाम(regular exercise)

तेल और वसा युक्त भोजन करने से शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल का निर्माण होता है जिससे  रक्तवाहिनियों में क्लॉट बनने लगता है। लेकिन नियमित व्यायाम और खानपान पर ध्यान देकर हम यकीनन दिल की सेहत का ख्याल रख सकते हैं। खासतौर जिन लोगो का दिल कमजोर है,

या फिर जिन लोगो को स्ट्रोक हो चुका है उन लोगो को फिजिकल थेरेपी(Physical Therapy) की प्रक्रिया अपनानी चाहिए। इससे दिल मजबूत बनता है साथ ही फ्यूचर में स्ट्रोक का खतरा कम हो जाता है।

आप रोजाना व्यायाम(daily exercise) जैसे सुबह दौड़ लगाना(running), पानी में तैरना(swimming), साइकिल(cycling) चलाना या फिर एरोबिक्स(aerobics) कर सकते है| इससे दिल मजबूत होता है। दरहसल व्यायाम (exercise)करने से दिल की शरीर की ऑक्सीजन का इस्तेमाल करने की क्षमता बढ़ती है। हृदय गति बेहतर होती है और  सांस लेने की प्रक्रिया में भी काफी सुधार होता है।

Heart-Care-Tips-in-Hindi

gharelu nuskhe घरेलु  नुस्खे अपनाए और अपने दिल(heart care) का रखे विशेषे ध्यान|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *